नेतृत्व

संचालक मंडळ:

  • श्रीसमीरएस。सोमैयाअध्यक्षएवंप्रबंधनिदेशक

    श्रीसमीरसोमैया१९९२मेंकेमिकलइंजीनियरिंगमेंमास्टर्सकेसाथकॉर्नेलविश्वविद्यालयसेस्नातकहुए।उन्होंने१९९३मेंकॉर्नेलविश्वविद्यालयसेएमबीएऔर२००५मेंहार्वर्डयूनिवर्सिटीसेपब्लिकऐड्मिनिस्ट्रैशनमेंमास्टर्सप्राप्तकि।उन्होंनेशैक्षिकसफलताकेलिये१९९८मेंअमेरिकनइंस्टीट्यूटऑफकेमिकलइंजिनियरकाऔर१९९०मेंअमेरिकनइंस्टीट्यूटऑफकेमिस्टअवार्डकापुरस्कारप्राप्तकिया।

    आगेपढीए

    १९९३ में समीर गोदावरी बायोरिफायनरीज लिमिटेड में शामिल हो गए। उन्होंने अनुसंधान और नवाचार द्वारा समर्थित आर्थिक, सामाजिक और पर्यावरणीय स्थिरता पर ध्यान केंद्रित करके कंपनी को आगे बढाया है।

    अपनेपिताऔरदादाकीविरासतकोजारीरखतेहुएश्रीसमीरसोमैयावंचितवर्गोंकेजीवनमेंसुधारलानेवालीयोजनाओमेसक्रीयभूमिकानिभातेहै।

    उनकेमार्गदर्शनकेतहतसोमैयाट्रस्ट३०सेअधिकविभिन्नशैक्षणिकसंस्थानोंकोवैदक,इंजीनियरिंग,कलाऔरविज्ञान,धर्म,व्यावसायिकअध्ययन,शिक्षा,भाषाआदिजैसेविभिन्नक्षेत्रोंमेंप्राथमिकसेपीएचडीतकशिक्षाकेलीयेप्रबंधनकरताहै।यहाँ३५हजारछात्रऔर१,३००शिक्षकहै。यहांपर५००बिस्तरोंवालाअर्बनटिचिंगहोस्पिटलऔर४०बिस्तरोंवालाग्रामीणरुग्णालयभीमौजूदहै।ट्रस्टसंयुक्तरूपसे८स्कूलचलातेहैं,जिनमेंसे६ग्रामीणमहाराष्ट्रऔरकर्नाटकमेंहैं।

    श्री。समीर सोमैया सोमैया विद्याविहार के अध्यक्ष हैं, के. जे. सोमैया ट्रस्ट, के, जे, सोमैया मेडिकल ट्रस्ट, के. जे. सोमैया इंस्टिट्यूट ऑफ़ अप्लाइड एग्रीकल्चर रिसर्च और गिरिव्न्वासी प्रगति मंडल के चेअरमन है।

    कॉर्नेल विश्वविद्यालय में केमिकल इंजीनियरिंग स्कूल में विज़िटिंग प्रशिक्षक के रूप में, उन्होंने केमिस्ट्री और शिक्षा के बारे में अपना प्यार इनका अच्छा संयोग बनाया है । उन्होंने भारत में चीनी और केमिकल उद्योग में सक्रिय भूमिका निभाई है। २००६-२००८ तक वह भारतीय केमिकल काउंसिल के अध्यक्ष (पश्चिमी क्षेत्र) और २००९ में इंडियन शुगर मिल्स एसोसिएशन के अध्यक्ष थे।

    वहप्रधानमंत्रीकेप्रमुखवैज्ञानिकसलाहकारद्वारागठितग्रीनकेमिस्ट्रीइनिशिएटिवकेएकसमितिकेसदस्यहै。इसकेअलावाअमेरिकाकेस्कुलऑफ़केमिकलइंजिनीअरिंगऔरअमेरिकाकेडार्टमाउथस्थितमैसाचुसेट्सविश्वविद्यालयकेसेंटरफॉरइंडिकस्टडीजऔरकझाक्स्थानकेकाउन्सिलफॉररिलिजिअसलीडर्सकेसलाहमंडलमेंउन्होंनेअहमभूमिकानिभायीहै。

  • श्रीएसएनबबलेश्वरकार्यसंचालक

    चीनीप्रौद्योगिकीऔरस्नातकोत्तरमेंशुगरटेक्नोलॉजीमेंस्नातकश्रीएस。एन.बबलेश्वरकोलकाताकेजादवपुरविश्वविद्यालयकेकेमिकलइंजीनियरिंगसंस्थानकेएकसहयोगीसदस्यहैं。

    आगेपढीए

    श्री एस. एन. बबलेश्वर ने ४० साल पहले कंपनी के साथ अपनि साझेदारी शुरू की। समीरवाड़ी में लैब केमिस्ट के रूप में काम की शुरुवात करते हुए आज वे निदेशक (वर्क्स) के पद तक पहुंच गए है। अपने अनुभव और विशेषज्ञता के माध्यम से उन्होंने जो भूमिका ली है, उसमें उन्होंने योगदान दिया है।

  • डॉ。बी.आर.बरवलेकार्यकारीनिदेशक

    महाराष्ट्र हाइब्रिड सीड्स कंपनी लिमिटेड (महिको) के अध्यक्ष डॉ. बी.आर. बरवले को एक दूरदर्शी, प्रमुख उद्यमी, परोपकारी और शिक्षाविद के रूप में जाना जाता है। एक कृषि परिवार की पृष्ठभूमिवाले डॉ. बरवले के इस क्षेत्र में और देश के विकास में योगदान करने के लिए के जुनून ने वर्षों से अपने काम को काफी हद तक परिभाषित किया है। उन्हें भारतीय बीज उद्योग के जनक के रूप में जाना जाता है और कृषि उद्योग में उनके योगदान के लिए उन्हें कई पुरस्कार प्राप्त हुए हैं, जिसमें १९९८ में वर्ल्ड फूड प्राइज फाउंडेशन द्वारा १२ वीं विश्व खाद्य पुरस्कार और बीज उद्योग के लिए अंतरराष्ट्रीय शीर्ष संस्था फेडरेशन इंटरनेशनल सीड्समेन (एफआईएस) के लिए मानद जीवन सदस्यता ऐसे सन्मानो का समावेश है ।

    आगेपढीए

    मार्च2001मेंडॉ。बरवलेकोव्यापारऔरआर्थिकगतिविधिकेक्षेत्रमेंउच्चपदकीउनकीविशिष्टसेवाकीमान्यतामेंपद्मभूषणपुरस्कारसेसम्मानितकियागया。उन्होंनेअपनेकरियरकेदौरान 'माईजर्नीविदसीड्सएंडदडेवलपमेंटऑफदइंडियनसीडइंडस्ट्री' और 'भूमिपुत्र' यहदोपुस्तकेंलिखीहैं。

  • श्री。उदयगर्गइन्वेस्टर नामांकित निदेशक

    श्री उदय गर्ग मार्च, २०१५ से मंडल कैपिटल एजी लिमिटेड का प्रतिनिधित्व करते हुए कंपनी के निवेदक निमनी निदेशक रहे हैं। श्री गर्ग, एक निजी इक्विटी फंड मैनेजर मंडाला कैपिटल के संस्थापक हैं, 2324;23234;2374;232374;;ॆ;;êêओककककेररककककककककक2325;ल;ल;;ल;;;व232357;;236;यय,अल्टीमा पार्टनर्स और गवाही सलाहकारों के पोर्टफोलियो प्रबंधक थे , और उनके कैरियर की शुरुआत डोशे बैंक के साथ एक निवेश बैंकर के रूप में हुई। श्री गर्ग सिल्वेनिया विश्वविद्यालय में व्हार्टन स्कूल ऑफ बिजनेस से अर्थशास्त्र में स्नातक है।

    आगेपढीए

    श्रीगर्गभारतकेबरवलेपरिवारकेसदस्यहैं,जोभारतकेसबसेसफलकृषिव्यवसायऔरदेशकेसबसेबड़ेबिजव्यवसायमहिकोकेसंस्थापकऔर50सालतकइसउद्योगकेसंचलनकर्ताहै。

  • श्री विनय जोशीकार्यकारीनिदेशक——गोदावरीबायोरिफ़नीरीजलिमिटेड

    श्रीविनयजोशीवाणिज्यमेंस्नातकोत्तरहैंऔरपुणेविश्वविद्यालयसेवित्तीयलेखांकनऔरलागतएवंप्रबंधनलेखाम​​ेंविशेषज्ञताकेसाथहैं。वहचीनी,इथनॉल,केमिकल्स,फूडप्रोसेसिंग,पावरऔरबुकपब्लिशिंगसहितविभिन्नउद्योगोंसेजुड़ेहुएहैंऔरविभिन्नक्षमताओंमें35सेअधिकवर्षोंकेलिएसोमैयाग्रुपऑफकम्पनियोंकेसाथजुड़ाहुआहै。

    आगेपढीए

    श्रीविनयजोशी2साल(2016और2017)केलिएदक्षिणभारतीयचीनीमिल्सएसोसिएशन - कर्नाटक(एसआयएसएमए-के)केअध्यक्षथे。उन्होंनेभारतमेंकेंद्रीयऔरराज्यसरकारकेअधिकारियोंकेसामनेचीनी,इथेनॉलऔरबिजलीउद्योगकेहितोंकाप्रतिनिधित्वकियाहै。

    वहइंडियनशुगरमिल्सएसोसिएशन(आईएसएमए)केएकसमितिसदस्यहैंऔरभारतीयउद्योगपरिसंघ(सीआईआई)केमहाराष्ट्रवित्तऔरकराधानपैनलकेसदस्यभीहैं।

    श्री विनय जोशी ने चीनी, इथेनॉल, और इथेनॉल आधारित रसायनों के क्षेत्रों में विलय, एकीकरण और अधिग्रहण के प्रस्तावों को सफलतापूर्वक प्रबंधित किया है।

    उन्होंनेविभिन्नअंतर्राष्ट्रीयऔरराष्ट्रीयनिकायोंमेंसोमैयासमूहकाप्रतिनिधित्वकियाहैजिसमेंउद्योगसंघ,चैंबरऑफकॉमर्सऔरविभिन्नसरकारीअधिकारीशामिलहैं।

  • श्री एस मोहनकार्यकारीनिदेशक

    मद्रासविश्वविद्यालयसेएप्लाइडसाइंसमेंस्नातकश्रीएसमोहनकोअल्कोहलऔरअल्कोहलआधारितरासायनिकउद्योगोंमें35सेअधिकवर्षोंकाअनुभवहै。वह2010केपेंटोकीऑर्गेनीइंडियालिमिटेडमेंनिदेशक(वर्क्स)हैंऔरसाखरवाडी,गोदावरीबायोरिफ़नीरीजलिमिटेडमेंभीनिदेशकहैं。

  • श्रीकैलाशपरशादस्वतंत्र निदेशक

    श्रीकैलाशपरशादजोवित्त,विपणनऔरप्रबंधनमें40वर्षोंकेअनुभवप्राप्तअभियंताहै。वहकंपनीकेसलाहकारऔरकंसलटेंटऔरआईसीआईसीआई,आईडीबीआईऔरयूटीआईकेनामांकितनिदेशकहै。

  • डॉ. के. वी. राघवनस्वतंत्र निदेशक

    डॉ. के. वी. राघवन, भारतीय राष्ट्रीय एकेडमी ऑफ इंजीनियरिंग (आईएनएई) के उपाध्यक्ष (शैक्षणिक एवं अंतर्राष्ट्रीय सहयोग) और एशियाई जैव प्रौद्योगिकी संस्थान फेडरेशन (एफएबीए) के उपाध्यक्ष हैं। डॉ. के.वी. राघवन परमाणु ऊर्जा नियामक बोर्ड और हेवी वॉटर बोर्ड के निदेशक (भारत सरकार) भी हैं और डीआरडीओ की उत्प्रेरक इथेनॉल सुधार, नैनोफ्लुइड प्रणाली और अन्य रणनीतिक परियोजनाओके परियोजना की समीक्षा और निगरानी समितियों के चेअरमन है वह पर्यावरण और वन मंत्रालय, भारत सरकार के संशोधन एवं विकास की सर्वोच्च समिति के सदस्य है

    आगेपढीए

    नेशनलएकेडमीऑफइंजीनियरिंग,इंडियनइंस्टीट्यूटऑफकेमिकलइंजीनियर्स(आईआईसीएचई)औरए.पी.एकेडमीऑफसाइंसेजऔरयूनिवर्सिटीऑफग्रांट्सकमीशन(यूजीसी)केएकफैलोरहचुकेराघवनने120सेअधिकप्रबंधप्रकाशितकिए,45पेटेंटदायरकियेऔर3पुस्तकोंकासंपादनकिया。

    उन्होंने १९६४ में उस्मानिया विश्वविद्यालय से बी.टेक पूरा किया। उसके बाद उन्होंने भारतीय प्रौद्योगिकी संस्थान (आईआईटी), मद्रास से एमएस और पीएचडी अर्जित की। वह १९६४ में सीएसआईआर सेवा में शामिल हुए और मई २००४ में रक्षा मंत्रालय, भारत सरकार के डीआरडीओ के भर्ती और आकलन केंद्र के अध्यक्ष के रूप में उन्हें नियुक्त किया गया।

    वहपेट्रोलियमऔरप्राकृतिकगैसमंत्रालयऔरभारतसरकारकेस्वास्थ्यमंत्रालयकीवैज्ञानिकसलाहकारसमितिकेसदस्यथे।आन्ध्रप्रदेशसरकारकीनैसर्गिकगैसउपयोगऔरफार्मासंशोधनएवंविकासनिधिकीस्थापनाकेलिएनियुक्तउच्चस्तरीयसमितियोंकाउन्होंनेप्रतिनिधित्वकिया।वेइंडियनइंस्टिट्यूटऑफ़केमिकलएन्जिनिअर्सऔरए,पी。अकेडमीऑफ़सायन्सेसकेपूर्वअध्यक्षथे।

  • डॉ。प्रीतीरावतअकार्यकारी निदेशक

    डॉ。प्रीतीएस。रावतके。जे。सोमैयाइंस्टीट्यूटऑफमैनेजमेंटस्टडीजएंडरिसर्च(एसआईएमएसआर)मेंप्रोफेसर(ओबी/एचआरएम)हैं।।वहविभिन्नप्रबंधनपाठ्यक्रमोंकेलिएशिक्षणकार्यकोसंभालनेऔरअलग——अलगभारतीयविश्वविद्यालयोंमेंप्रबंधनकेविषयकेलिएडॉक्टरेट(पीएचडी)गाइडहै।

    आगेपढीए

    वह 'बिज़नेस पर्सपेक्टिव्स एंड रिसर्च' के संपादक हैं, जो कि एसआईजीएसआर के अंतर्राष्ट्रीय प्रबंधन पत्रिका सेज प्रकाशन द्वारा प्रकाशित होता है। डॉ रावत ने कई राष्ट्रीय और अंतर्राष्ट्रीय पत्रिकाओं में अपने काम को प्रकाशित किया है और कई अंतर्राष्ट्रीय सम्मेलनों में भाग लिया है। उन्होंने 'कार्यस्थल सशक्तिकरण' पर एक पुस्तक भी लिखी है उनका अनुसंधान हित नेतृत्व, सशक्तीकरण और विविधता है वह जूनियर, मध्यम और वरिष्ठ प्रबंधन के लिए व्यवहार प्रशिक्षण कार्यक्रम प्रदान करके उद्योग के साथ जुड़ा हुआ है।

  • डॉ。पॉलझोर्नेरअकार्यकारी निदेशक

    डॉ。पॉलज़ोर्नरकोलोराडोस्टेटयूनिवर्सिटीसेवनस्पतिविज्ञानऔरप्लांटपैथोलॉजीमेंपीएच。डी。हैं,जहांउन्होंनेशुष्कभूमिकृषिकेलिएफसलप्रणालियोंकेविकासपरकामकिया।

    आगेपढीए

    डॉ。पॉलज़ोर्नरबायोमाससेउत्पन्नकियेजानेवालेअक्षयईंधन,रसायनऔरअन्यउच्चमूल्यवालीबायोमैटिरियल्सकेउत्पादनमेंशामिलकईकंपनियोंऔरउद्यमकंपनियोंकेलिएएकनिदेशकयावरिष्ठसलाहकारकेरूपमेंकार्यकरतेहैं。उनकेउत्पादन,इंजीनियरिंग,कारखानेकेसंचालन,पौधेकीकिस्त्रीचयनऔरआगेप्रौद्योगिकीलाइसेंसिंगऔरकार्यान्वयन,सरकारीसंबंधों,नीति,बंद-करारोंऔरस्थिरतारणनीतियोंऔरव्यापारयोजनाकेविकासकेक्षेत्रमेंचीनीऔरकेमिकलउद्योगोंमेंव्यापकअंतरराष्ट्रीयअनुभवऔरविशेषज्ञताहै।डॉ。पॉलकृषि,रसायनऔरअक्षयऊर्जाकेक्षेत्रमेंशुरूआतीऔरफॉर्च्यून500कंपनियोंकेसाथवैज्ञानिकविकास,संचालनऔरवरिष्ठप्रशासनिकस्थितिमेंसमृद्धअनुभवरखतेहै。

    डॉपॉलअमेरिकाकेवीडविज्ञानसोसायटीकेएकफेलोहैं。वह35सेअधिकअमेरिकीपेटेंटकेआविष्कारकहैं。क्वींसलैंड,ऑस्ट्रेलियासरकारद्वाराक्वींसलैंडचैंपियनकेरूपमेंउनको2006年मेंसन्मानितकियागयाथा(वेयहपुरस्कारपानेवालेपहलेअमरीकीहै)。

  • श्री. जयेंद्र शाहस्वतंत्र निदेशक

    श्रीजयंताशाहमुंबईविश्वविद्यालयसेकला(अर्थशास्त्र)मेंबॅचलरकीडिग्रीप्राप्तकिहैंऔरभारतकेचार्टर्डएकाउंटेंट्ससंस्थानसेएकयोग्यचार्टर्डएकाउंटेंटहैं।

    आगेपढीए

    श्रीजयंताशाहएककुशलव्यापारपरामर्शदाताहैंऔरएनएशाहएसोसिएट्स,चार्टर्डएकाउंटेंट्समें30वर्षोंकेअनुभवकेसाथएकवरिष्ठभागीदारहैं。

    उनकाव्यापकरणनीतिकज्ञानऔरपरिचालनअनुभवसंगठनोंकोमार्केटकीक्षमताकोप्राप्तकरनेमेंसक्षमकरताहैं।उनकाग्राहकोंकोमूल्यदेनेऔरविकासकोबढ़ानेकाएकस्थापितट्रैकरिकॉर्डहै।

  • प्रो。एम。लक्ष्मीकंटमस्वतंत्र निदेशक

    प्रो. लक्ष्मी कंटम केमिकल इंजीनियरिंग विभाग, ग्रीन केमिस्ट्री और कैलिफोर्निया के रसायन विज्ञान संस्थान, इंस्टीट्यूट ऑफ केमिकल टेक्नोलॉजी, माटुंगा, मुंबई -४०००१९, भारत. की डॉ. बी.पी. गोदरेज प्रतिष्ठित प्रोफेसर है। रसायन उद्योग के लिए अभिनव हरे और आर्थिक प्रक्रियाओं के लिए उत्प्रेरक के अनुसंधान, डिजाइन और विकास में उनके ३३ वर्ष का अनुभव है।

    आगेपढीए

    इससेपहले,उन्होंनेसीएसआईआर——आईआईसीटी,हैदराबादमेंनिदेशककेरूपमेंकार्यकिया।उन्होंने३३२सेअधिकप्रकाशन,४२पेटेंटऔरपांचपुस्तकअध्यायोंकीरचनाकीहै।वहतेज़पुरसेंट्रलयूनिवर्सिटी,तेजपुर,आसामऔरआरएमआईटीविश्वविद्यालय,मेलबोर्न,ऑस्ट्रेलियामेंसहायकप्रोफेसरहैं।वहभारतीयराष्ट्रीयविज्ञानअकादमीऔरनेशनलएकेडमीऑफसाइंसेजकीएकसाथीहैं।